सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

New !!

Kahani Karn Ki Poem Lyrics By Abhi Munde (Psycho Shayar) | कहानी कर्ण की - Karna Par Hindi Kavita

PRIVACY POLICY

Privacy Policy for SAHITYASHALA - HUB OF LITERATURE

 

At साहित्यशाला - Hub Of Literature, accessible from  https://kavitasadan.blogspot.com/ , one of our main priorities is the privacy of our visitors. This Privacy Policy document contains types of information that is collected and recorded by साहित्यशाला - Hub Of Literature and how we use it.

If you have additional questions or require more information about our Privacy Policy, do not hesitate to contact us through email at harshnathjha19062004@gmail.com
Log Files

साहित्यशाला - Hub Of Literature follows a standard procedure of using log files. These files log visitors when they visit websites. All hosting companies do this and a part of hosting services' analytics. The information collected by log files includes internet protocol (IP) addresses, browser type, Internet Service Provider (ISP), date and time stamp, referring/exit pages, and possibly the number of clicks. These are not linked to any information that is personally identifiable. The purpose of the information is for analyzing trends, administering the site, tracking users' movement on the website, and gathering demographic information.
Cookies and Web Beacons

Like any other website,साहित्यशाला - Hub Of Literatureuses 'cookies'. These cookies are used to store information including visitors' preferences, and the pages on the website that the visitor accessed or visited. The information is used to optimize the users' experience by customizing our web page content based on visitors' browser type and/or other information.
Google DoubleClick DART Cookie

Google is one of the third-party vendor on our site. It also uses cookies, known as DART cookies, to serve ads to our site visitors based upon their visit to www.website.com and other sites on the internet. However, visitors may choose to decline the use of DART cookies by visiting the Google ad and content network Privacy Policy at the following URL – https://policies.google.com/technologies/ads
Privacy Policies

You may consult this list to find the Privacy Policy for each of the advertising partners of साहित्यशाला - Hub Of Literature. Our Privacy Policy was created with the help of the GDPR Privacy Policy Generator

Third-party ad servers or ad networks uses technologies like cookies, JavaScript, or Web Beacons that are used in their respective advertisements and links that appear on साहित्यशाला - Hub Of Literature, which are sent directly to users' browser. They automatically receive your IP address when this occurs. These technologies are used to measure the effectiveness of their advertising campaigns and/or to personalize the advertising content that you see on websites that you visit.

Note that साहित्यशाला - Hub Of Literature has no access to or control over these cookies that are used by third-party advertisers.
Third Pary Privacy Policies

साहित्यशाला - Hub Of Literature's Privacy Policy does not apply to other advertisers or websites. Thus, we are advising you to consult the respective Privacy Policies of these third-party ad servers for more detailed information. It may include their practices and instructions about how to opt out of certain options. You may find a complete list of these Privacy Policies and their links here: Privacy Policy Links.

You can choose to disable cookies through your individual browser options. To know more detailed information about cookie management with specific web browsers, it can be found at the browsers' respective websites. What Are Cookies?
Children's Information

Another part of our priority is adding protection for children while using the internet. We encourage parents and guardians to observe, participate in, and/or monitor and guide their online activity.

साहित्यशाला - Hub Of Literature does not knowingly collect any Personal Identifiable Information from children under the age of 13. If you think that your child provided this kind of information on our website, we strongly encourage you to contact us immediately and we will do our best efforts to promptly remove such information from our records.
Online Privacy Policy Only

This Privacy Policy applies only to our online activities and is valid for visitors to our website with regards to the information that they shared and/or collect in कविता सदन-प्रेरणादायक कविताएँ. This policy is not applicable to any information collected offline or via channels other than this website.
Consent

By using our website, you hereby consent to our Privacy Policy and agree to its Terms and Conditions.
 
 
 

कविता घर के लिए गोपनीयता नीति-प्रसंस्करण कविताएं कविता घर-प्रचारण कविता कविताओं पर, https://kavitasadan.blogspot.com/ से सुलभ, हमारी मुख्य प्राथमिकताओं में से एक हमारे आगंतुकों की गोपनीयता है। इस गोपनीयता नीति दस्तावेज़ में कविता घर-प्रेरणण और कविताओं द्वारा एकत्र की जाने वाली जानकारी के प्रकार और हम इसका उपयोग कैसे करते हैं। यदि आपके पास अतिरिक्त प्रश्न हैं या हमारी गोपनीयता नीति के बारे में अधिक जानकारी की आवश्यकता है, तो ईमेल के माध्यम से संपर्क करने में संकोच न करेंharsnathjha19062004@gmail.com फाइल्स लॉग करें # लॉग फाइलें कविता घर-प्रेरणा कविता कविताएँ लॉग फ़ाइलों का उपयोग करने की एक मानक प्रक्रिया का पालन करती हैं। जब वे वेबसाइटों पर जाते हैं तो ये फ़ाइलें आगंतुकों को लॉग करती हैं। सभी होस्टिंग कंपनियां ऐसा करती हैं और होस्टिंग सेवाओं के विश्लेषण का एक हिस्सा हैं। लॉग फ़ाइलों द्वारा एकत्र की गई जानकारी में इंटरनेट प्रोटोकॉल (आईपी) पते, ब्राउज़र प्रकार, इंटरनेट सेवा प्रदाता (आईएसपी), दिनांक और समय टिकट, रेफ़रिंग/निकास पृष्ठ, और संभवतः क्लिकों की संख्या शामिल है। ये किसी भी ऐसी जानकारी से जुड़े नहीं हैं जो व्यक्तिगत रूप से पहचान योग्य हो। जानकारी का उद्देश्य रुझानों का विश्लेषण करना, साइट का प्रशासन करना, वेबसाइट पर उपयोगकर्ताओं की गतिविधियों पर नज़र रखना और जनसांख्यिकीय जानकारी एकत्र करना है। कुकीज़ और वेब बीकन किसी भी अन्य वेबसाइट की तरह, कविता घर-प्रेरणा कविताएं 'कुकीज़' का उपयोग करती हैं। इन कुकीज़ का उपयोग आगंतुकों की प्राथमिकताओं और वेबसाइट पर उन पृष्ठों सहित जानकारी संग्रहीत करने के लिए किया जाता है, जिन पर विज़िटर ने एक्सेस किया या विज़िट किया। जानकारी का उपयोग आगंतुकों के ब्राउज़र प्रकार और/या अन्य जानकारी के आधार पर हमारे वेब पेज सामग्री को अनुकूलित करके उपयोगकर्ताओं के अनुभव को अनुकूलित करने के लिए किया जाता है। गूगल डबलक्लिक डार्ट कुकी Google हमारी साइट पर तीसरे पक्ष के विक्रेता में से एक है। यह हमारी साइट के आगंतुकों को www.website.com और इंटरनेट पर अन्य साइटों पर जाने के आधार पर विज्ञापन देने के लिए DART कुकीज़ के रूप में जानी जाने वाली कुकीज़ का भी उपयोग करता है। हालाँकि, आगंतुक निम्नलिखित URL पर Google विज्ञापन और सामग्री नेटवर्क गोपनीयता नीति पर जाकर DART कुकीज़ के उपयोग को अस्वीकार करना चुन सकते हैं - https://policies.google.com/technologies/ads गोपनीयता पालिसी आप कविता घर-प्रेरणारण्य कविता के प्रत्येक विज्ञापन भागीदार के लिए गोपनीयता नीति खोजने के लिए इस सूची से परामर्श कर सकते हैं। हमारी गोपनीयता नीति GDPR गोपनीयता नीति जेनरेटर की मदद से बनाई गई थी तृतीय-पक्ष विज्ञापन सर्वर या विज्ञापन नेटवर्क कुकीज़, जावास्क्रिप्ट, या वेब बीकन जैसी तकनीकों का उपयोग करते हैं जो उनके संबंधित विज्ञापनों और लिंक में उपयोग किए जाते हैं जो कविता घर-प्रेरणा या कविताएँ पर दिखाई देते हैं, जो सीधे उपयोगकर्ताओं के ब्राउज़र पर भेजे जाते हैं। जब यह होता है, तब वे अपने आप आपका आईपी पता प्राप्त कर लेते हैं। इन तकनीकों का उपयोग उनके विज्ञापन अभियानों की प्रभावशीलता को मापने और/या आपके द्वारा देखी जाने वाली वेबसाइटों पर दिखाई देने वाली विज्ञापन सामग्री को वैयक्तिकृत करने के लिए किया जाता है। ध्यान दें कि तीसरे पक्ष के विज्ञापनदाताओं द्वारा उपयोग की जाने वाली इन कुकीज़ पर कविता घर-प्रचारण की कविताओं की कोई पहुँच या नियंत्रण नहीं है। तृतीय पक्ष गोपनीयता नीतियां कविता घर-प्रेरणा कविताएं की गोपनीयता नीति अन्य विज्ञापनदाताओं या वेबसाइटों पर लागू नहीं होती है। इस प्रकार, हम आपको अधिक विस्तृत जानकारी के लिए इन तृतीय-पक्ष विज्ञापन सर्वरों की संबंधित गोपनीयता नीतियों से परामर्श करने की सलाह दे रहे हैं। इसमें कुछ विकल्पों से ऑप्ट-आउट करने के तरीके के बारे में उनके अभ्यास और निर्देश शामिल हो सकते हैं। आपको इन गोपनीयता नीतियों और उनके लिंक की पूरी सूची यहां मिल सकती है: गोपनीयता नीति लिंक। आप अपने व्यक्तिगत ब्राउज़र विकल्पों के माध्यम से कुकीज़ को अक्षम करना चुन सकते हैं। विशिष्ट वेब ब्राउज़र के साथ कुकी प्रबंधन के बारे में अधिक विस्तृत जानकारी जानने के लिए, इसे ब्राउज़र की संबंधित वेबसाइटों पर पाया जा सकता है। कुकीज़ क्या हैं? बच्चों की जानकारी हमारी प्राथमिकता का एक अन्य हिस्सा इंटरनेट का उपयोग करते समय बच्चों के लिए सुरक्षा जोड़ना है। हम माता-पिता और अभिभावकों को उनकी ऑनलाइन गतिविधि का निरीक्षण करने, उसमें भाग लेने और/या निगरानी और मार्गदर्शन करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। कविता घर-प्रेरणा या कविताएं 13 साल से कम उम्र के बच्चों से जानबूझकर कोई व्यक्तिगत पहचान योग्य जानकारी एकत्र नहीं करती हैं। अगर आपको लगता है कि आपके बच्चे ने हमारी वेबसाइट पर इस तरह की जानकारी प्रदान की है तो हम आपको तुरंत संपर्क करने के लिए दृढ़ता से प्रोत्साहित करते हैं और हम अपनी पूरी कोशिश करेंगे। हमारे रिकॉर्ड से ऐसी जानकारी को तुरंत हटाने के लिए। केवल ऑनलाइन गोपनीयता नीति यह गोपनीयता नीति केवल हमारी ऑनलाइन गतिविधियों पर लागू होती है और हमारी वेबसाइट पर आने वाले आगंतुकों के लिए उस जानकारी के संबंध में मान्य है जो उन्होंने कविता घर-प्रेरणा या कविता में साझा की है और/या एकत्र की है। यह नीति इस वेबसाइट के अलावा ऑफ़लाइन या चैनलों के माध्यम से एकत्र की गई किसी भी जानकारी पर लागू नहीं होती है। सहमति हमारी वेबसाइट का उपयोग करके, आप हमारी गोपनीयता नीति के लिए सहमति देते हैं और इसके नियमों और शर्तों से सहमत होते हैं।

Famous Poems

महाभारत पर रोंगटे खड़े कर देने वाली हिंदी कविता - Mahabharata Poem On Arjuna

|| महाभारत पर रोंगटे खड़े कर देने वाली कविता || || Mahabharata Poem On Arjuna ||   तलवार, धनुष और पैदल सैनिक कुरुक्षेत्र में खड़े हुए, रक्त पिपासु महारथी इक दूजे सम्मुख अड़े हुए | कई लाख सेना के सम्मुख पांडव पाँच बिचारे थे, एक तरफ थे योद्धा सब, एक तरफ समय के मारे थे | महा-समर की प्रतिक्षा में सारे ताक रहे थे जी, और पार्थ के रथ को केशव स्वयं हाँक रहे थे जी ||    रणभूमि के सभी नजारे देखन में कुछ खास लगे, माधव ने अर्जुन को देखा, अर्जुन उन्हें  उदास लगे | कुरुक्षेत्र का महासमर एक पल में तभी सजा डाला, पांचजन्य  उठा कृष्ण ने मुख से लगा बजा डाला | हुआ शंखनाद जैसे ही सब का गर्जन शुरु हुआ, रक्त बिखरना हुआ शुरु और सबका मर्दन शुरु हुआ | कहा कृष्ण ने उठ पार्थ और एक आँख को मीच जड़ा, गाण्डिव पर रख बाणों को प्रत्यंचा को खींच जड़ा | आज दिखा दे रणभूमि में योद्धा की तासीर यहाँ, इस धरती पर कोई नहीं, अर्जुन के जैसा वीर यहाँ ||    सुनी बात माधव की तो अर्जुन का चेहरा उतर गया, एक धनुर्धारी की विद्या मानो चूहा कुतर गया | बोले पार्थ सुनो कान्हा - जितने

अरे! खुद को ईश्वर कहते हो तो जल्दी अपना नाम बताओ | Mahabharata Par Kavita

अरे! खुद को ईश्वर कहते हो तो जल्दी अपना नाम बताओ  || Mahabharata Par Kavita ||   तलवार, धनुष और पैदल सैनिक   कुरुक्षेत्र में खड़े हुए, रक्त पिपासु महारथी  इक दूजे सम्मुख अड़े हुए | कई लाख सेना के सम्मुख पांडव पाँच बिचारे थे, एक तरफ थे योद्धा सब, एक तरफ समय के मारे थे | महा-समर की  प्रतिक्षा  में सारे ताक रहे थे जी, और पार्थ के रथ को केशव स्वयं  हाँक  रहे थे जी ||    रणभूमि के सभी नजारे  देखन  में कुछ खास लगे, माधव ने अर्जुन को देखा, अर्जुन उन्हें  उदास  लगे | कुरुक्षेत्र का  महासमर  एक पल में तभी सजा डाला, पांचजन्य  उठा कृष्ण ने मुख से लगा बजा डाला | हुआ  शंखनाद  जैसे ही सब का गर्जन शुरु हुआ, रक्त बिखरना हुआ शुरु और सबका  मर्दन   शुरु हुआ | कहा कृष्ण ने उठ पार्थ और एक आँख को  मीच  जड़ा, गाण्डिव   पर रख बाणों को प्रत्यंचा को खींच जड़ा | आज दिखा दे रणभूमि में योद्धा की  तासीर  यहाँ, इस धरती पर कोई नहीं, अर्जुन के जैसा वीर यहाँ ||    सुनी बात माधव की तो अर्जुन का चेहरा उतर गया, एक  धनुर्धारी  की विद्या मानो चूहा कुतर गया | बोले पार्थ सुनो कान्हा - जितने ये सम्मुख खड़े हुए है, हम तो इन से सीख-स

सच है, विपत्ति जब आती है, कायर को ही दहलाती है - Sach Hai Vipatti Jab Aati Hai

  सच है, विपत्ति जब आती है, कायर को ही दहलाती है रामधारी सिंह "दिनकर" हिंदी कविता दिनकर की हिंदी कविता   सच है, विपत्ति जब आती है, कायर को ही दहलाती है, शूरमा नहीं विचलित होते, क्षण एक नहीं धीरज खोते, विघ्नों को गले लगाते हैं, काँटों में राह बनाते हैं। मुख से न कभी उफ कहते हैं, संकट का चरण न गहते हैं, जो आ पड़ता सब सहते हैं, उद्योग-निरत नित रहते हैं, शूलों का मूल नसाने को, बढ़ खुद विपत्ति पर छाने को। है कौन विघ्न ऐसा जग में, टिक सके वीर नर के मग में ? खम ठोंक ठेलता है जब नर , पर्वत के जाते पाँव उखड़। मानव जब जोर लगाता है, पत्थर पानी बन जाता है । गुण बड़े एक से एक प्रखर, हैं छिपे मानवों के भीतर, मेंहदी में जैसे लाली हो, वर्तिका-बीच उजियाली हो। बत्ती जो नहीं जलाता है, रोशनी नहीं वह पाता है। पीसा जाता जब इक्षु-दण्ड , झरती रस की धारा अखण्ड , मेंहदी जब सहती है प्रहार, बनती ललनाओं का सिंगार। जब फूल पिरोये जाते हैं, हम उनको गले लगाते हैं। वसुधा का नेता कौन हुआ? भूखण्ड-विजेता कौन हुआ ? अतुलित यश क्रेता कौन हुआ? नव-धर्म प्रणेता कौन हुआ ? जिसने न कभी आराम किया, विघ्नों में रहकर ना

रानी पद्मिनी और गोरा, बादल पर नरेंद्र मिश्र की रुला देने वाली कविता | Gora Badal Poem

पद्मिनी गोरा बादल नरेंद्र मिश्र ( Narendra Mishra ) रानी पद्मिनी और गोरा, बादल पर नरेंद्र मिश्र की रुला देने वाली कविता

अग्निपथ (Agneepath) - हरिवंश राय बच्चन | Agnipath Poem By Harivansh Rai Bachchan

अग्निपथ - हरिवंश राय बच्चन  Agnipath Poem By Harivansh Rai Bachchan वृक्ष हों भले खड़े, हों घने हों बड़े, एक पत्र छाँह भी, माँग मत, माँग मत, माँग मत, अग्निपथ अग्निपथ अग्निपथ । अग्निपथ(Agneepath) - हरिवंश राय बच्चन | Agnipath Poem By Harivansh Rai Bachchan तू न थकेगा कभी, तू न रुकेगा कभी, तू न मुड़ेगा कभी, कर शपथ, कर शपथ, कर शपथ, अग्निपथ अग्निपथ अग्निपथ । अग्निपथ(Agneepath) - हरिवंश राय बच्चन | Agnipath Poem By Harivansh Rai Bachchan यह महान दृश्य है, चल रहा मनुष्य है, अश्रु श्वेत रक्त से, लथपथ लथपथ लथपथ, अग्निपथ अग्निपथ अग्निपथ । Agneepath Poem By Harivansh Rai Bachchan Agneepath Poem In Hinglish Vriksh hon bhale khade, hon ghane hon bade, Ek patra chhah bhi maang mat, maang mat, maang mat, Agnipath, Agnipath, Agnipath. Tu na thakega kabhi tu na thamega kabhi tu na mudega kabhi, Kar shapath, Kar shapath, Kar shapath, Agnipath, Agnipath, Agnipath. अग्निपथ(Agneepath) - हरिवंश राय बच्चन | Agnipath Poem By Harivansh Rai Bachchan Ye Mahaan Drishya hai, Chal raha Manushya hai, Ashru, swed,

Kahani Karn Ki Poem Lyrics By Abhi Munde (Psycho Shayar) | कहानी कर्ण की - Karna Par Hindi Kavita

Kahani Karn Ki Poem Lyrics By Psycho Shayar   कहानी कर्ण की - Karna Par Hindi Kavita पांडवों  को तुम रखो, मैं  कौरवों की भी ड़ से , तिलक-शिकस्त के बीच में जो टूटे ना वो रीड़ मैं | सूरज का अंश हो के फिर भी हूँ अछूत मैं , आर्यवर्त को जीत ले ऐसा हूँ सूत पूत मैं |   कुंती पुत्र हूँ, मगर न हूँ उसी को प्रिय मैं, इंद्र मांगे भीख जिससे ऐसा हूँ क्षत्रिय मैं ||   कुंती पुत्र हूँ, मगर न हूँ उसी को प्रिय मैं, इंद्र मांगे भीख जिससे ऐसा हूँ क्षत्रिय मैं ||   आओ मैं बताऊँ महाभारत के सारे पात्र ये, भोले की सारी लीला थी किशन के हाथ सूत्र थे | बलशाली बताया जिसे सारे राजपुत्र थे, काबिल दिखाया बस लोगों को ऊँची गोत्र के ||   सोने को पिघलाकर डाला शोन तेरे कंठ में , नीची जाती हो के किया वेद का पठंतु ने | यही था गुनाह तेरा, तू सारथी का अंश था, तो क्यों छिपे मेरे पीछे, मैं भी उसी का वंश था ?   यही था गुनाह तेरा, तू सारथी का अंश था, तो क्यों छिपे मेरे पीछे, मैं भी उसी का वंश था ? ऊँच-नीच की ये जड़ वो अहंकारी द्रोण था, वीरों की उसकी सूची में, अर्जुन के सिवा कौन था ? माना था माधव को वीर, तो क्यों डरा एकल

Hindu Tan Man, Hindu Jeevan | हिंदु तन मन, हिन्दु जीवन, रग-रग हिन्दु मेरा परिचय

 Hindu Tan Man, Hindu Jeevan हिंदु तन मन, हिन्दु जीवन, रग-रग हिन्दु मेरा परिचय Atal  Bihari  Vajpayee  Hindi Poems अटल बिहारी वाजपेयी  की  हिंदी कवितायेँ  Hindu Tan Man, Hindu Jeevan हिंदु तन-मन, हिन्दु जीवन , रग-रग हिन्दु मेरा परिचय ॥ मैं शंकर का वह क्रोधानल कर सकता जगती क्षार क्षार। डमरू की वह प्रलयध्वनि हूं जिसमे नचता भीषण संहार। रणचंडी की अतृप्त प्यास , मैं दुर्गा का उन्मत्त हास । मैं यम की प्रलयंकर पुकार , जलते मरघट का धुँआधार। फिर अंतरतम की ज्वाला से, जगती मे आग लगा दूं मैं। यदि धधक उठे जल, थल, अंबर, जड़, चेतन तो कैसा विस्मय ? हिन्दु तन मन, हिन्दु जीवन, रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥ मैं आदि पुरुष, निर्भयता का वरदान लिये आया भू पर। पय पीकर सब मरते आए, मैं अमर हुआ लो विष पीकर। अधरों की प्यास बुझाई है, पी कर मैने वह आग प्रखर । हो जाती दुनिया भस्मसात , जिसको पल भर में ही छूकर। भय से व्याकुल फिर दुनिया ने प्रारंभ किया मेरा पूजन। मैं नर, नारायण, नीलकण्ठ बन गया न इसमे कुछ संशय । हिन्दु तन मन, हिन्दु जीवन, रग रग हिन्दु मेरा परिचय॥ Hindu Tan Man, Hindu Jeevan | हिंदु तन मन, हिन्दु जीवन, रग-

कृष्ण की चेतावनी - KRISHNA KI CHETAWANI | रश्मिरथी - रामधारी सिंह " दिनकर " | Mahabharata Poems |

|| कृष्ण की चेतावनी - KRISHNA KI CHETAWANI || || रश्मिरथी - रामधारी सिंह " दिनकर " || | MAHABHARATA POEMS | | MAHABHARATA POEMS IN HINDI | Krishna Ki Chetawani - कृष्ण की चेतावनी   वर्षों तक वन में घूम-घूम, बाधा-विघ्नों को चूम-चूम, सह धूप - घाम , पानी-पत्थर, पांडव आये कुछ और निखर । सौभाग्य न सब दिन सोता है, देखें, आगे क्या होता है || Krishna Ki Chetawani - कृष्ण की चेतावनी मैत्री की राह बताने को, सबको सुमार्ग पर लाने को, दुर्योधन को समझाने को, भीषण विध्वंस बचाने को, भगवान हस्तिनापुर आये, पांडव का संदेशा लाये || Krishna Ki Chetawani - कृष्ण की चेतावनी दो न्याय, अगर तो, आधा दो, पर, इसमें भी यदि बाधा हो, तो दे दो केवल पाँच ग्राम , रखों अपनी धरती तमाम | हम वहीं खुशी से खायेंगे, परिजन पर असि न उठायेंगे !! दुर्योधन वह भी दे ना सका, आशीष समाज की ले न सका, उलटे, हरि को बाँधने चला, जो था असाध्य , साधने चला। जब नाश मनुज पर छाता है, पहले विवेक मर जाता है ||   जब नाश मनुज पर छाता है, पहले विवेक मर जाता है || Krishna Ki Chetawani - कृष्ण की चेतावनी हरि

सादगी तो हमारी जरा देखिये | Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics | Nusrat Fateh Ali Khan Sahab

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics सादगी तो हमारी जरा देखिये   सादगी तो हमारी जरा देखिये,  एतबार आपके वादे पे कर लिया | मस्ती में इक हसीं को ख़ुदा कह गए हैं हम,  जो कुछ भी कह गए वज़ा कह गए हैं हम  || बारस्तगी तो देखो हमारे खुलूश कि,  किस सादगी से तुमको ख़ुदा कह गए हैं हम ||   किस शौक किस तमन्ना किस दर्ज़ा सादगी से,  हम करते हैं आपकी शिकायत आपही से || तेरे अताब के रूदाद हो गए हैं हम,  बड़े खलूस से बर्बाद हो गए हैं हम ||

अरे ! कान खोल कर सुनो पार्थ Lyrics In Hindi - Mahabharata Poem On Arjuna

अरे ! कान खोल कर सुनो पार्थ Lyrics In Hindi Mahabharata Poem On Arjuna अरे ! कान खोल कर सुनो पार्थ Lyrics In Hindi - Mahabharata Poem On Arjuna तलवार,धनुष और पैदल सैनिक  कुरुक्षेत्र मे खड़े हुये, रक्त पिपासू महारथी  इक दूजे सम्मुख अड़े हुये | कई लाख सेना के सम्मुख पांडव पाँच बिचारे थे, एक तरफ थे योद्धा सब, एक तरफ समय के मारे थे | महासमर की  प्रतिक्षा  में सारे टाँक रहे थे जी, और पार्थ के रथ को केशव स्वयं  हाँक  रहे थे जी ||    रणभूमि के सभी नजारे  देखने में कुछ खास लगे, माधव ने अर्जुन को देखा, अर्जुन उन्हें  उदास  लगे | कुरुक्षेत्र का  महासमर  एक पल में तभी सजा डाला, पाञ्चजन्य  उठा कृष्ण ने मुख से लगा बजा डाला | हुआ  शंखनाद  जैसे ही सबका गर्जन शुरु हुआ, रक्त बिखरना हुआ शुरु और सबका  मर्दन  शुरु हुआ | कहा कृष्ण ने उठ पार्थ और एक आँख को  मीच  जड़ा, गाण्डिव  पर रख बाणों को प्रत्यंचा को खींच जड़ा | आज दिखा दे रणभूमि में योद्धा की  तासीर  यहाँ, इस धरती पर कोई नहीं, अर्जुन के जैसा वीर यहाँ ||   अरे ! कान खोल कर सुनो पार्थ Lyrics In Hindi - Mahabharata Poem On Arjuna सुनी बात माधव की तो अर्जु