सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

New !!

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक - aah ko chāhiye ik umr asar hote tak | Mirza Ghalib Ghazal

सादगी तो हमारी जरा देखिये | Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics | Nusrat Fateh Ali Khan Sahab

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

 
सादगी तो हमारी जरा देखिये, 
एतबार आपके वादे पे कर लिया |

मस्ती में इक हसीं को ख़ुदा कह गए हैं हम, 
जो कुछ भी कह गए वज़ा कह गए हैं हम  ||
बारस्तगी तो देखो हमारे खुलूश कि, 
किस सादगी से तुमको ख़ुदा कह गए हैं हम ||


सादगी तो हमारी जरा देखिये | Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

किस शौक किस तमन्ना किस दर्ज़ा सादगी से, 
हम करते हैं आपकी शिकायत आपही से ||

तेरे अताब के रूदाद हो गए हैं हम, 
बड़े खलूस से बर्बाद हो गए हैं हम ||

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

सादगी तो हमारी जरा देखिये, 
एतबार आपके वादे पे कर लिया |
बात तो शीर्फ एक रात की थी मगर, 
इंतज़ार आपका उम्रभर कर लिया ||

इश्क में उलझने पहले ही कम न थी, 
और पैगामे आ-दर्दे-सर कर लिया |
लोग डरते हे कातिल की परछाईं से, 
हमने कातिल के दिल में भी घर कर लिया ||

जिक्र इक बेवफ़ा और सितम ग़र का था, 
आपका ऐसी बातों से क्या वास्ता ||
आप तो बेवफा और सितमगर नहीं, 
आपने किस लिए मुह उधर कर लिया ||

जिंदगी भर के शिकवे-गिले थे बहुत, 
वक़्त इतना कहाँ था कि दोहराते हम  |
इक हिचकी में कह डाली सब दास्तान, 
हमने किस्से को यूँ मुख़्तसर कर लिया ||

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

बेकरारी मिलेगी मिटेगा सुकून, 
चैन छिन जायेगा नीद उड़ जायेगी |
अपना अंजाम सब हमको मालूम था, 
आपसे दिल का सौदा मगर कर लिया ||

जिंदगी के सफ़र में बहुत दूर तक, 
जब कोई दोस्त आया न हमको नज़र |
हमने घबरा के तन्हाइयो से ऐ “सबा”, 
इक दुश्मन को खुद हमसफ़र कर लिया ||

सादगी तो हमारी जरा देखिये, 
एतबार आपके वादे पे कर लिया …..
सादगी तो हमारी जरा देखिये | Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

Sadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadagi To Hamari Zara Dekhiye
Etbaar Aapke Vaade Per Kar Liya
Saadgi to hamari zara dekhiye
Saadgi to hamari zara dekhiye

Masti mein ik haseen ko khuda keh gaay hein hum
Jo kuch bhi keh ga'ay hein baja keh ga'ay hein hum
Sadgi to hamari zara dekhiyeh
Aaa sadgi to hamari zara dekhiyeh

Is sadgi say tujh ko khuda keh ga'ay hein hum
Sadgi to hamari zara dekhiyeh
Sadgi to hamari zara dekhiyeh

Kiss chop kiss tamanna kis darja sadgi say
Hum aap ki shikayat karte hein aap he say
Sadgi to hamari zara dekhiyeh
Sadgi to hamari zara dekhiyeh

Tere ata ki rodaad ho ga'ay hein hum
Baray khuloos say barbaad ho ga'ay hein hum
Sadgi to hamari zara dekhiyeh
Sadgi to hamari zara dekhiyeh

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Sadgi to hamari zara daikh'iyeh
Aitbaar aapke vaade par kar liya
Baat to sirf ik raat ki thi magar
Intizaar aap ka umar bhar ker lia

Ishq mein uljhanein pehle he kam na thi
Aur pedaan aa ward e sir? ker lia
Loag dartay hein qatil ki parchaiyen say
Hum ne qatil ke dil mein bhi ghar ker lia

Zikr ik bewafa aur sitamgar ka tha
Shikwa kia sitam ka to
Tum to zara si baat per ranjida ho ga'ay
Zikr ik bewafa aur sitamgar ka tha


Tera zulm nahi hai shamal gar meri barbadi mein
Phir yeh aankhein bheeg rahi hein kiyoon mere afsanay say
Zikr ik bewafa aur sitamgar ka tha
Zikr ik bewafa aur sitamgar ka tha

Meri halat daikh ker tum kiyoon pareshaan ho ga'ay
Zikr ik bewafa aur sitamgar ka tha
Vocables
Zikr ik bewafa aur sitamgar ka tha

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Zikr ik bewafa aur sitamgar ka tha
Aap ka aise baaton say kia wasta
Aap to bewafa aur sitamgar nahi
Aap ne kiss liyeh mo udhar ker lia

Jab tulu aaftab hota hai gham ke sagir uchal deta hoon
Tazkara jab wafa ka hota hai mein tumhari misaal deta hoon
Aap to bewafa aur sitamgar nahi
Aap to bewafa aur sitamgar nahi

Kiyoon aankh milayi thi kiyoon aag lagai thi
Ub rukh kiyoon chupa baithay ker ke mujhe deewana
Aap to bewafa aur sitamgar nahi
Aap to bewafa aur sitamgar nahi

Zindagi-bhar ke shikway gilay thay bohot
Waqt itna kahan tha ke dohratay hum
Aik hijki mein keh dali sub dastaan
Hum qissay ko yoon mukhtasar ker lia

Beqarari milay gi milay ga sukoon
Chain chin ja'ay ga neend urh ja'ay gi
Apna anjaam sub hum ko maloom tha
Aap say dil ka sauda magar ker lia

Zindagi ke safar mein bohot door tak
Jab koi dost aaya na hum ko nazar
Hum ne ghabra ke tanhaioon say sada
Aik dushman ko khud humsafar ker lia

Saadagi To Hamari Zara Dekhiye
Aitebaar Aapke Waday Per Kar Liya
Saadagi To Hamari Zara Dekhiye
Aitebar Aapke Waade Per Kar Liya


 Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

Saadgi To Hamari Zara Dekhiye Lyrics

सादगी तो हमारी जरा देखिये

 

 

Famous Poems

महाभारत पर रोंगटे खड़े कर देने वाली हिंदी कविता - Mahabharata Poem On Arjuna

|| महाभारत पर रोंगटे खड़े कर देने वाली कविता || || Mahabharata Poem On Arjuna ||   तलवार, धनुष और पैदल सैनिक कुरुक्षेत्र में खड़े हुए, रक्त पिपासु महारथी इक दूजे सम्मुख अड़े हुए | कई लाख सेना के सम्मुख पांडव पाँच बिचारे थे, एक तरफ थे योद्धा सब, एक तरफ समय के मारे थे | महा-समर की प्रतिक्षा में सारे ताक रहे थे जी, और पार्थ के रथ को केशव स्वयं हाँक रहे थे जी ||    रणभूमि के सभी नजारे देखन में कुछ खास लगे, माधव ने अर्जुन को देखा, अर्जुन उन्हें  उदास लगे | कुरुक्षेत्र का महासमर एक पल में तभी सजा डाला, पांचजन्य  उठा कृष्ण ने मुख से लगा बजा डाला | हुआ शंखनाद जैसे ही सब का गर्जन शुरु हुआ, रक्त बिखरना हुआ शुरु और सबका मर्दन शुरु हुआ | कहा कृष्ण ने उठ पार्थ और एक आँख को मीच जड़ा, गाण्डिव पर रख बाणों को प्रत्यंचा को खींच जड़ा | आज दिखा दे रणभूमि में योद्धा की तासीर यहाँ, इस धरती पर कोई नहीं, अर्जुन के जैसा वीर यहाँ ||    सुनी बात माधव की तो अर्जुन का चेहरा उतर गया, एक धनुर्धारी की विद्या मानो चूहा कुतर गया | बोले पार्थ सुनो कान्हा - जितने

कृष्ण की चेतावनी - KRISHNA KI CHETAWANI | रश्मिरथी - रामधारी सिंह " दिनकर " | Mahabharata Poems |

|| कृष्ण की चेतावनी - KRISHNA KI CHETAWANI || || रश्मिरथी - रामधारी सिंह " दिनकर " || | MAHABHARATA POEMS | | MAHABHARATA POEMS IN HINDI | Krishna Ki Chetawani - कृष्ण की चेतावनी वर्षों तक वन में घूम-घूम, बाधा-विघ्नों को चूम-चूम, सह धूप - घाम , पानी-पत्थर, पांडव आये कुछ और निखर । सौभाग्य न सब दिन सोता है, देखें, आगे क्या होता है || Krishna Ki Chetawani - कृष्ण की चेतावनी मैत्री की राह बताने को, सबको सुमार्ग पर लाने को, दुर्योधन को समझाने को, भीषण विध्वंस बचाने को, भगवान हस्तिनापुर आये, पांडव का संदेशा लाये || Krishna Ki Chetawani - कृष्ण की चेतावनी दो न्याय, अगर तो, आधा दो, पर, इसमें भी यदि बाधा हो, तो दे दो केवल पाँच ग्राम , रखों अपनी धरती तमाम | हम वहीं खुशी से खायेंगे, परिजन पर असि न उठायेंगे !! दुर्योधन वह भी दे ना सका, आशीष समाज की ले न सका, उलटे, हरि को बाँधने चला, जो था असाध्य , साधने चला। जब नाश मनुज पर छाता है, पहले विवेक मर जाता है ||   जब नाश मनुज पर छाता है, पहले विवेक मर जाता है || Krishna Ki Chetawani - कृष्ण की चेतावनी हरि ने भ

अरे! रणभूमि में छल करते हो, तुम कैसे भगवान हुए ! | Karna Par Hindi Kavita | Ranbhoomi Me Chhal Karte

अरे! रणभूमि में छल करते हो, तुम कैसे भगवान हुए ! || Karna Par Hindi Kavita || || Poem On Karna || अरे! रणभूमि में छल करते हो, तुम कैसे भगवान हुए ! | Karna Par Hindi Kavita | Ranbhoomi Me Chhal Karte सारा जीवन श्रापित-श्रापित , हर रिश्ता बेनाम कहो, मुझको ही छलने के खातिर मुरली वाले श्याम कहो, तो किसे लिखूं मैं प्रेम की पाती, किसे लिखूं मैं प्रेम की पाती, कैसे-कैसे इंसान हुए, अरे! रणभूमि में छल करते हो, तुम कैसे भगवान हुए ! अरे! रणभूमि में छल करते हो, तुम कैसे भगवान हुए ! | Karna Par Hindi Kavita | Ranbhoomi Me Chhal Karte || माँ को कर्ण लिखता है || अरे! रणभूमि में छल करते हो, तुम कैसे भगवान हुए ! | Karna Par Hindi Kavita | Ranbhoomi Me Chhal Karte कि मन कहता है, मन करता है, कुछ तो माँ के नाम लिखूं , एक मेरी जननी को लिख दूँ, एक धरती के नाम लिखूं , प्रश्न बड़ा है मौन खड़ा - धरती संताप नहीं देती, और धरती मेरी माँ होती तो , मुझको श्राप नहीं देती | तो जननी माँ को वचन दिया है, जननी माँ को वचन दिया है, पांडव का काल नहीं हूँ मैं, अरे! जो बेटा गंगा में छोड़े, उस कुंती का लाल नहीं हूँ

अरे! खुद को ईश्वर कहते हो तो जल्दी अपना नाम बताओ | Mahabharata Par Kavita

अरे! खुद को ईश्वर कहते हो तो जल्दी अपना नाम बताओ  || Mahabharata Par Kavita ||   तलवार, धनुष और पैदल सैनिक   कुरुक्षेत्र में खड़े हुए, रक्त पिपासु महारथी  इक दूजे सम्मुख अड़े हुए | कई लाख सेना के सम्मुख पांडव पाँच बिचारे थे, एक तरफ थे योद्धा सब, एक तरफ समय के मारे थे | महा-समर की  प्रतिक्षा  में सारे ताक रहे थे जी, और पार्थ के रथ को केशव स्वयं  हाँक  रहे थे जी ||    रणभूमि के सभी नजारे  देखन  में कुछ खास लगे, माधव ने अर्जुन को देखा, अर्जुन उन्हें  उदास  लगे | कुरुक्षेत्र का  महासमर  एक पल में तभी सजा डाला, पांचजन्य  उठा कृष्ण ने मुख से लगा बजा डाला | हुआ  शंखनाद  जैसे ही सब का गर्जन शुरु हुआ, रक्त बिखरना हुआ शुरु और सबका  मर्दन   शुरु हुआ | कहा कृष्ण ने उठ पार्थ और एक आँख को  मीच  जड़ा, गाण्डिव   पर रख बाणों को प्रत्यंचा को खींच जड़ा | आज दिखा दे रणभूमि में योद्धा की  तासीर  यहाँ, इस धरती पर कोई नहीं, अर्जुन के जैसा वीर यहाँ ||    सुनी बात माधव की तो अर्जुन का चेहरा उतर गया, एक  धनुर्धारी  की विद्या मानो चूहा कुतर गया | बोले पार्थ सुनो कान्हा - जितने ये सम्मुख खड़े हुए है, हम तो इन से सीख-स

अग्निपथ (Agneepath) - हरिवंश राय बच्चन | Agnipath Poem By Harivansh Rai Bachchan

अग्निपथ - हरिवंश राय बच्चन  Agnipath Poem By Harivansh Rai Bachchan वृक्ष हों भले खड़े, हों घने हों बड़े, एक पत्र छाँह भी, माँग मत, माँग मत, माँग मत, अग्निपथ अग्निपथ अग्निपथ । अग्निपथ(Agneepath) - हरिवंश राय बच्चन | Agnipath Poem By Harivansh Rai Bachchan तू न थकेगा कभी, तू न रुकेगा कभी, तू न मुड़ेगा कभी, कर शपथ, कर शपथ, कर शपथ, अग्निपथ अग्निपथ अग्निपथ । अग्निपथ(Agneepath) - हरिवंश राय बच्चन | Agnipath Poem By Harivansh Rai Bachchan यह महान दृश्य है, चल रहा मनुष्य है, अश्रु श्वेत रक्त से, लथपथ लथपथ लथपथ, अग्निपथ अग्निपथ अग्निपथ । Agneepath Poem By Harivansh Rai Bachchan Agneepath Poem In Hinglish Vriksh hon bhale khade, hon ghane hon bade, Ek patra chhah bhi maang mat, maang mat, maang mat, Agnipath, Agnipath, Agnipath. Tu na thakega kabhi tu na thamega kabhi tu na mudega kabhi, Kar shapath, Kar shapath, Kar shapath, Agnipath, Agnipath, Agnipath. अग्निपथ(Agneepath) - हरिवंश राय बच्चन | Agnipath Poem By Harivansh Rai Bachchan Ye Mahaan Drishya hai, Chal raha Manushya hai, Ashru, swed,

सच है, विपत्ति जब आती है, कायर को ही दहलाती है - Sach Hai Vipatti Jab Aati Hai

  सच है, विपत्ति जब आती है, कायर को ही दहलाती है रामधारी सिंह "दिनकर" हिंदी कविता दिनकर की हिंदी कविता   सच है, विपत्ति जब आती है, कायर को ही दहलाती है, शूरमा नहीं विचलित होते, क्षण एक नहीं धीरज खोते, विघ्नों को गले लगाते हैं, काँटों में राह बनाते हैं। मुख से न कभी उफ कहते हैं, संकट का चरण न गहते हैं, जो आ पड़ता सब सहते हैं, उद्योग-निरत नित रहते हैं, शूलों का मूल नसाने को, बढ़ खुद विपत्ति पर छाने को। है कौन विघ्न ऐसा जग में, टिक सके वीर नर के मग में ? खम ठोंक ठेलता है जब नर , पर्वत के जाते पाँव उखड़। मानव जब जोर लगाता है, पत्थर पानी बन जाता है । गुण बड़े एक से एक प्रखर, हैं छिपे मानवों के भीतर, मेंहदी में जैसे लाली हो, वर्तिका-बीच उजियाली हो। बत्ती जो नहीं जलाता है, रोशनी नहीं वह पाता है। पीसा जाता जब इक्षु-दण्ड , झरती रस की धारा अखण्ड , मेंहदी जब सहती है प्रहार, बनती ललनाओं का सिंगार। जब फूल पिरोये जाते हैं, हम उनको गले लगाते हैं। वसुधा का नेता कौन हुआ? भूखण्ड-विजेता कौन हुआ ? अतुलित यश क्रेता कौन हुआ? नव-धर्म प्रणेता कौन हुआ ? जिसने न कभी आराम किया, विघ्नों में रहकर ना

रानी पद्मिनी और गोरा, बादल पर नरेंद्र मिश्र की रुला देने वाली कविता | Gora Badal Poem

पद्मिनी गोरा बादल नरेंद्र मिश्र ( Narendra Mishra ) रानी पद्मिनी और गोरा, बादल पर नरेंद्र मिश्र की रुला देने वाली कविता

Talvar, Dhanush Aur Paidal Sainik Kavita - तलवार धनुष और पैदल सैनिक | Mahabharata Poem On Arjuna

  Talvar , Dhanush Aur Paidal Sainik Kavita तलवार धनुष और पैदल सैनिक महाभारत पर रोंगटे खड़े कर देने वाली कविता Mahabharata Poem On Arjuna   Talvar, Dhanush Aur Paidal Sainik Kavita तलवार धनुष और पैदल सैनिक तलवार, धनुष  और पैदल सैनिक   कुरुक्षेत्र में खड़े हुए, रक्त पिपासु महारथी  इक दूजे सम्मुख अड़े हुए | कई लाख सेना के सम्मुख पांडव पाँच बिचारे थे, एक तरफ थे योद्धा सब, एक तरफ समय के मारे थे | महा समर की  प्रतीक्षा  में सारे ताक रहे थे जी, और पार्थ के रथ को केशव स्वयं  हाँक  रहे थे जी ||    रणभूमि के सभी नजारे देखन में कुछ खास लगे, माधव ने अर्जुन को देखा, अर्जुन उन्हें  उदास   लगे | कुरुक्षेत्र का  महासमर  एक पल में तभी सजा डाला, पाचजण्य  उठा कृष्ण ने मुख से लगा बजा डाला | हुआ  शंखनाद  जैसे ही सबका गर्जन शुरु हुआ, रक्त बिखरना हुआ शुरु और सबका  मर्दन  शुरु हुआ | कहा कृष्ण ने उठ पार्थ और एक आँख को  मीच  जड़ा, गाण्डिव   पर रख बाणों को प्रत्यंचा को खींच जड़ा | आज दिखा दे रणभूमि में योद्धा की  तासीर  यहाँ, इस धरती पर कोई नहीं, अर्जुन के जैसा वीर यहाँ ||    Talvar, Dhanush Aur Paidal Sainik Kavit

Dar Pe Sudama Garib Aa Gaya Hai Lyrics | दर पे सुदामा गरीब आ गया है

Dar Pe Sudama Garib Aa Gaya Hai Lyrics दर पे सुदामा गरीब आ गया है  लिरिक्स देखो देखो ये गरीबी, ये गरीबी का हाल । कृष्ण के दर पे, विश्वास लेके आया हूँ ।। मेरे बचपन का यार है, मेरा श्याम । यही सोच कर मैं, आस कर के आया हूँ ।। अरे द्वारपालों, कन्हैया से कह दो । अरे द्वारपालों, कन्हैया से कह दो ।। के दर पे सुदामा, गरीब आ गया है । के दर पे सुदामा, गरीब आ गया है ।। भटकते भटकते, ना जाने कहां से । भटकते भटकते, ना जाने कहां से ।। तुम्हारे महल के, करीब आ गया है । तुम्हारे महल के, करीब आ गया है ।। ना सर पे है पगड़ी, ना तन पे हैं जामा । बता दो कन्हैया को, नाम है सुदामा ।। Dar Pe Sudama Garib Aa Gaya Hai Lyrics दर पे सुदामा गरीब आ गया है  लिरिक्स बता दो कन्हैया को, नाम है सुदामा । बता दो कन्हैया को, नाम है सुदामा ।। ना सर पे है पगड़ी, ना तन पे हैं जामा । बता दो कन्हैया को, नाम है सुदामा ।। हो..ना सर पे है पगड़ी, ना तन पे हैं जामा । बता दो कन्हैया को, नाम है सुदामा ।। बता दो कन्हैया को । नाम है सुदामा ।। इक बार मोहन, से जाकर के कह दो । तुम इक बार मोहन, से जाकर के कह दो ।। के मिलने सखा, बदनसीब आ गया है ।